Breaking News

साहित्य -कविताएं

चार लोगों की चौकड़ी ने कर रखा है भाषा अकादमी पर कब्जा- गुरुदत्त

संस्था ने भाषा अकादमी की कर्यप्रणाली पर उठाए सवाल शिमला प्रदेश के सामाजिक-सांस्कृतिक क्षेत्र में कार्यरत सर्वहितकारी संघ ने हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी की कार्यप्रणाली पर गम्भीर सवाल उठाते हुए नयी सरकार से अनुरोधा किया है कि प्रदेश की अकादमी को साहित्य, कला और संस्कृति के क्षेत्र में गम्भीर और स्तरीय काम करना चाहिए। जबकि पिछले पांच सालों में ... Read More »

स्ट्रेचर पर पुरुषवाद

शादी हुई … दोनों बहुत खुश थे! स्टेज पर फोटो सेशन शुरू हुआ! … दूल्हे ने अपने दोस्तों का परिचय साथ खड़ी अपनी साली से करवाया… ” ये है मेरी साली , आधी घरवाली ” दोस्त ठहाका मारकर हंस दिए ! दुल्हन मुस्कुराई और अपने देवर का परिचय अपनी सहेलियो से करवाया… ” ये हैं मेरे देवर ..आधे पति परमेश्वर ... Read More »

#लड़कियाँ_बड़ी_लड़ाका_होती_हैं

  मैंने देखा एक लड़की महिला सीट पर बैठे पुरुष को उठाने के लिए लड़ रही थी तो दूसरी लड़की महिला – कतार में खड़े पुरुष को हटाने के लिए लड़ रही थी मैंने दिमाग दौड़ाया तो हर ओर लड़की को लड़ते हुए पाया जब लड़की घर से निकलती है तो उसे लड़ना पड़ता है गलियों से राहों से सैकड़ों ... Read More »

संघर्ष और अध्यापक

लघु कथा पिकासो (Picasso) स्पेन में जन्मे एक अति प्रसिद्ध चित्रकार थे। उनकी पेंटिंग्स दुनिया भर में करोड़ों और अरबों रुपयों में बिका करती थीं…!! एक दिन रास्ते से गुजरते समय एक महिला की नजर पिकासो पर पड़ी और संयोग से उस महिला ने उन्हें पहचान लिया। वह दौड़ी हुई उनके पास आयी और बोली, ‘सर, मैं आपकी बहुत बड़ी ... Read More »

चमचे और चमचों की गाथा

लघु कथा अंग्रेज जब भारत में आए तो अपने साथ चमचा लेकर आए। उन्हे हाथ से खाना नहीं आता था। अंग्रेजो ने चमचे के दम पर 200 साल राज किया। जमकर चमचों का इस्तेमाल किया उन्होने। बड़े बड़े खिताबों से नवाजा गया चमचों को, लोहे से लेकर सोने-चांदी के हीरे जड़े चमचे तैयार किए गए। साम-दाम-दंड-भेद प्रक्रिया को अपनाया। चमचों ... Read More »

खुद्दारी की दौलत

लघु कथा लगभग दस साल का बालक आंटी जी का गेट बजा रहा है। आंटी जी ने बाहर आकर पूंछा “क्या है ? ” “आंटी जी क्या मैं आपका गार्डन साफ कर दूं ?” “नहीं, हमें नहीं करवाना।” हाथ जोड़ते हुए दयनीय स्वर में “प्लीज आंटी जी करा लीजिये न, अच्छे से साफ करूंगा।” द्रवित होते हुए “अच्छा ठीक है, ... Read More »

—– मैली सी माँ —–

  ”अरे बेटा सुरेन्द्रररर–! ”कमरे के भीतर से किसी बुजुर्ग महिला की कपकपाती सी आवाज आई। ”जाओ सुनकर आओ अपनी माता श्री की।” सुगन्धा ने नाश्ता करते हुए पति से मुँहे बनाते हुए कहा। ”हाँ.. हाँ.. जा रहा हूँ……जा रहा हूँ….. तुम भी कभी पूँछ लिया करो उनका हाल-चाल !” ”मैं, न बाबा न मैं तो उस कमरे की तरफ़ ... Read More »

मजबूर बच्चे की अनदेखी कहानी

मैं एक घर के करीब से गुज़र रहा था की अचानक से मुझे उस घर के अंदर से एक बच्चे की रोने की आवाज़ आई। उस बच्चे की आवाज़ में इतना दर्द था कि अंदर जा कर वह बच्चा क्यों रो रहा है, यह मालूम करने से मैं खुद को रोक ना सका। अंदर जा कर मैने देखा कि एक ... Read More »

डॉ विजयवर्गीय की पुस्तक का सीएम ने किया विमोचन

शिमला मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने उनके सरकारी आवास ओक-ओवर में गत सांय आयुर्वेद विशेषज्ञ डा. अनुराग विजयवर्गीय की पुस्तक ‘स्वास्थ्यवर्धक पेय’ का विमोचन किया। इस पुस्तक में पारम्परिक दवाईयों के माध्यम से विभिन्न बीमारियों तथा उपचार का वर्णन किया गया है। Read More »

परम्परा- “15 पोहा री रात”

वक्त के साथ बदली 15 पोह की परंपरा:- कुछ समय पहले तक आज की रात साल मे सबसे बड़ी रात मानी जाती थी और दिन सबसे छोटा। इसलिए “15 पोहा री रात” एक उत्सव के रूप में मनाई जाती थी। मान्यता है कि 15 पोह से दिन “चीड़ू रे साह बराबर” बढ़ते-बढ़ते माघ की संक्रान्ति तक दिन बकरे की छलांग ... Read More »

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com