Breaking News

राजभवन में श्री रामचरित मानस में शामिल हुए धूमल

नेता प्रतिपक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री  प्रो प्रेम कुमार धूमल ने आज राजभवन, शिमला में आयोजित रामचरित चिंतन सत्र के चौथे दिन बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। राज्यपाल आचार्य देवव्रत तथा पूर्व मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्वलित कर सत्र का शुभारंभ किया।

आर्य प्रतिनिधि सभा, हरयाणा के अध्यक्ष श्रीरामपाल आर्य विशेष तौर पर कार्यक्रम में उपस्थित हुए।

वाल्मीकि रामायण पर आधारित श्री रामचरितचिंतन सत्र में कुलदीप आर्य ने अपनीसंगीतमयी प्रस्तुति देते हुए कहा कि दिव्यसंस्कारों के साथ अपनी संतान का पालन पोषणकरें, यही संदेश हमें अपने धार्मिक ग्रन्थों सेमिलता है। पंद्रह वर्ष की आयु में आते आते श्रीराम महापुरुष के सभी गुण से परिपूर्ण हो गए।

इस उम्र में वैदिक संस्कृति की रक्षा के लिएउन्होंने ऋषि मुनियों की राक्षसो से रक्षा की। ऋषि विश्वमित्र के संदर्भ को उन्होंने बड़े ही अच्छेतरीके से प्रस्तुत किया।

उन्होंने कहा कि श्री राम का चिंतन हमें पितृ भक्ति, भ्रातृ प्रेम,आज्ञापालन, प्रतिग्यपूर्ति तथा सत्यपरायणता कीशिक्षा देता है।

हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीशन्यायमूर्ति धर्म चंद चौधरी, न्यायमूर्ति संदीप शर्मा तथा न्यायमूर्ति  चन्दर भूषण बरोवलिया तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इसअवसर पर उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com