Breaking News

राज्यपाल ने पीजीआई चण्डीगढ़ में ISNCC-2017 का किया शुभारम्भ

 

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने गत सांय चण्डीगढ़ स्थित पीजीआई में एनिस्थीसिया एण्ड इन्टेसिव केयर विभाग द्वारा आयोजित इण्डियन सोसायटी ऑफ न्यूरो ऐनस्थीयोलॉजी एण्ड क्रिटिकल केयर आईएसएनएसीसी-2017 एवं एन्यूरिज्म पर अन्तरराष्ट्रीय वार्षिक सम्मेलन का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि स्वस्थ शरीर, जीवन का आधार है और चिकित्सक स्वस्थ जीवन जीने की राह दिखाते हैं।

DSC_8277

उन्होंने कहा कि चिकित्सक हमें बेहतर जीवन जीने की प्रणाली देते हैं और इस प्रकार वे ईमानदारी व समपर्ण की भावना से मानवता की सेवा करते हैं। यही कारण है कि चिकित्सकों को भगवान के समान दर्जा दिया गया है। उन्होंने चिकित्सकों से पीड़ित मानवता के लिए और समपर्ण की भावना से कार्य करने का आह्वान किया।

राज्यपाल ने कहा कि इस तरह की कार्यशालाओं के आयोजन से उपस्थित प्रतिभागियों के विचारों का परस्पर आदान-प्रदान होता है।

उन्होंने कहा कि चण्डीगढ़ स्थित पीजीआई देश का एक प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थान है, जिसकी रोगियों की देखरेख, शिक्षा व अनुसंधान क्षेत्र के इतिहास में महत्वपूर्ण भूमिका रही है। उन्होंने कहा कि हिमाचल, पंजाब, हरियाणा व अन्य साथ लगते राज्यों से भारी संख्या में रोगी यहां एक उम्मीद के साथ आते हैं और यह संस्थान उनकी अपेक्षाओं को पूरा करता है।

राज्यपाल ने कहा कि गत कुछ वर्षों के दौरान चिकित्सा विज्ञान का तकनीक व अनुसंधान के माध्यम से विकास हुआ है, लेकिन दूसरी ओर रोगियों की संख्या में भी कई गुणा वृद्धि हुई है, जिसपर विचार करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हमें अपनी जीवन शैली में बदलाव लाना होगा जिसके लिये उन्होंने प्राकृतिक प्रणाली को अपनाने का सुझाव दिया।

DSC_8339

इससे पूर्व, राज्यपाल ने आईएसएनएसीसी द्वारा तैयार की गई स्मारिका का विमोचन किया और चिकित्सकों को उनकी सेवाओं के लिए सम्मानित किया।

ऐनिसथिसिया विभाग के प्रमुख प्रो. जी.डी. पूरी ने राज्यपाल का स्वागत किया और कार्यशाला के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस कार्यशाला में 400 से अधिक प्रतिभागी भाग ले रहे हैं और यह कार्यशाला न्यूरो ऐनस्थीया के उपचार व अनुसंधान इत्यादि में विचार-विमर्श करने के लिए मंच प्रदान कर रही है।

पीजीआई के निदेशक प्रो. के.एल.एन. राव ने राज्यपाल को सम्मानित किया।

आईएसएनएसीसी के अध्यक्ष प्रो. एल.डी. मिश्रा ने भी राज्यपाल का स्वागत किया।

संगठन सचिव प्रो. निधि पांडा ने धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com