Breaking News

Exclusive– जय राम ठाकुर तस्वीरें- व्यक्तिगत जीवन:- देखें

शिमला
माननीय जय राम ठाकुर ने 26 साल की उम्र मे पहला चुनाव लडा। उनका परिवार नहीं चाहता था कि वे राजनीति में जाए। www.a4applenews.com
मंडी का सराज विधानसभा क्षेत्र विधानसभा को प्रकृति ने सुंदरता का अपार भंडार बख्शा है।

इसी विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत “मूराहग ,,के तांदी गांव में है भाजपा नेता जय राम ठाकुर का घर।

6 जनवरी 1965 को जेठू राम और ब्रिकू देवी के घर जन्मे जय राम ठाकुर का बचपन गरीबी में कटा। www.a4applenews.com

परिवार में 3 भाई और 2 बहनें हैं। पिता खेतीबाड़ी और मजदूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण करते थे। जय राम ठाकुर तीन भाईयों में सबसे छोटे हैं। इसलिएउनकी पढ़ाई-लिखाई में परिवार वालों ने कोई कसर नहीं छोड़ी।

जय राम ठाकुर ने कुराणी स्कूल से प्रारंभिक शिक्षा ग्रहण की। इसके बाद बगस्याड़ से उच्च शिक्षा प्राप्त की। इसके बाद वह मंडी आए। यहां बी ए करने के बाद पंजाब यूनिवर्सिटी से एम ए की पढ़ाई पूरी की।

www.a4applenews.com
जय राम ठाकुर का परिवार नहीं चाहता था कि वह राजनीति में जाएं, लेकिन उन्होंने अपने दम पर राजनीति की बुलंदियों को छुआ है।

जय राम ठाकुर को पढ़ा चुके अध्यापक लालू राम बताते हैं कि जय राम ठाकुर बचपन से ही पढ़ाई में काफी तेज थे।

अध्यापक भी यही सोचते थे कि जय राम ठाकुर किसी अच्छी पोस्ट पर जरूर जाएंगे। लेकिन अध्यापकों को यह मालूम नहीं था कि उनका शिष्य प्रदेश की राजनीति का चमकता सितारा बन जाएगा। www.a4applenews.com

जब जय राम ठाकुर वल्लभ कालेज मंडी से बी ए की पढ़ाई कर रहे थे। तो उन्होंने एबीवीपी के माध्यम से छात्र राजनीति में प्रवेश किया। यहीं से शुरूआत हुई जय राम ठाकुर के राजनीतिक जीवन की। जय राम ठाकुर ने इसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा।

एबीवीपी के साथ-साथ वे संघ से भी जुड़े और कार्य करते रहे। घर परिवार से दूर जम्मू-कश्मीर जाकर एबीवीपी का प्रचार किया और 1992 में घर लौटे। www.a4applenews.com

घर लौटने के बाद वर्ष 1993 में जय राम ठाकुर को भाजपा ने सराज विधानसभा क्षेत्र से टिकट देकर चुनावी मैदान में उतार दिया। जब घरवालों को इस बात का पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया।

जय राम ठाकुर के बड़े भाई बीरी सिंह बताते हैं कि परिवार के सदस्यों ने जय राम ठाकुर को राजनीति में न जाकर घर मे खेतीबाड़ी संभालने की सलाह दी थी। क्योंकि चुनाब लड़ने के लिए परिवार की आर्थिक स्थिति इजाजत नहीं दे रही थी। www.a4applenews.com
जय राम ठाकुर ने अपने दम पर राजनीति में डटे रहने का निर्णय लिया और विधानसभा का चुनाव लड़ा। उस वक्त जय राम ठाकुर मात्र 26 वर्ष के थे।

 

यह चुनाव जय राम ठाकुर हार गए। वर्ष1998 में भाजपा ने फिर से जय राम ठाकुर को चुनावी रण में उतारा। इस बार जय राम ठाकुर ने जीत हासिल की और उसके बाद विधानसभा चुनाव में कभी हार का मुहं नहीं देखा।

जय राम ठाकुर विधायक बनने के बाद भी अपनी सादगी से दूर नहीं हुए। www.a4applenews.com

जय राम ठाकुर ने विधायकी मिलने के बाद भी अपना वो पुश्तैनी कमरा नहीं छोड़ा जहां उन्होंने अपने कठिन दिन बिताए थे। जय राम ठाकुर अपने पुश्तैनी घर में ही रहे।

हालांकि जय राम ठाकुर ने एक अलीशान बंगला बना लिया है और वह परिवार सहित वहां पर रहने भी लग गए है। लेकिन शादी के बाद भी जय राम ठाकुर ने अपने नए जीवन की शुरूआत पुश्तैनी घर से ही की।
वर्ष 1995 में उन्होंने जयपुर की डॉ. साधना सिंह के साथ शादी की। www.a4applenews.com

जय राम ठाकुर की दो बेटियां हैं। आज अपने बेटे को इस मुकाम पर देखकर माता का दिल फुले नहीं समाता। जय राम ठाकुर के पिता जेठू राम का गत वर्ष देहांत हो गया है।

जय राम ठाकुर की माता ब्रिकू देवी ने बताया कि उन्होंने बिपरित हालात में अपने बच्चों की परवरिष की है। अब उनका सपना है कि जय राम ठाकुर प्रदेश का सीएम बने।
जय राम ठाकुर एक बार सराज मंडल भाजपा के अध्यक्ष,
एक बार प्रदेशाध्यक्ष, राज्य खाद्य आपूति बोर्ड के उपाध्यक्ष और कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं।

जब जय राम ठाकुर भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष थे तो भाजपा प्रचण्ड बहुमत के साथ सत्ता में आई थी। जय राम ठाकुर ने उस दौरान सभी नेताओं पर अपनी जबरदस्त पकड़ बनाकर रखी थी। पार्टी को एकजुट करने में कोई कसर नहीं छोड़ी । यही कारण है कि आज इस नेता का नाम शीर्ष पद को लेकर चला है। अब वह लगभग तय है। वह लगातार पांचवीं बार विधायक बने है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com