Breaking News

वाकआउट, हंगामे और नारेबाजी के साथ धर्मशाला में शीतकालीन सत्र का आगाज़

सीमा शर्मा, एप्पल न्यूज धर्मशाला

हिमाचल सरकार के दूसरे शीतकालीन सत्र का आगाज नाररबाजी, हंगामे और वाकआउट के साथ हुई। यूँ तो सदन की कार्यवाही शुरू तो राष्ट्रगान के साथ हुई लेकिन उसके तुरंत बाद इससे पहले की प्रश्नकाल शुरू हो पाता नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने पॉइन्ट ऑफ आर्डर के तहत सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि बीते 15 दिनों से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर विपक्ष की आवाज दबाने के लिए सरकार और प्रशासन के डंडे का डर दिखाक्त धमकियां दी रहे हैं। सत्र खत्म होने पर है लेकिन बच्चों को वर्दियां नहीं मिली।

इस पर सत्ता पक्ष की ओर से मुकेश को टोका जाने लगा। तभी पक्ष और विपक्ष दोनों की तरफ से हंगामा शुरू हो गया। और नारेबाजी शुरू कर दी। पूरे 10 मिनट तक भारी गतिरोध चलता रहा दोनों ओर से एक दूसरे पर आरोप लगाए जाते रहे। 2 बजकर 10 मिनट पर विधानसभा अध्यक्ष राजीव बिंदल ने हंगामे के बीच ही प्रश्नकाल शुरू किया लेकिन विपक्ष जोरदार नारेबाजी करता रहा।

हंगामा होता रहा और अध्यक्ष प्रश्न के लिए विक्रम जरयाल से आग्रह करते रहे। वह सुन ही नहीं पाए। तभी विधायक सुरेश कश्यप दौड़े दौड़े जरयाल के पास गए और उन्हें चेताया कि आपका प्रश्न लगा है पूछें। तब प्रश्न पूछा गया लेकिन विपक्ष हंगामा करता रहा। कांग्रेस की ओर से कोई प्रश्न नहीं पूछा गया।

इसी बीच विपक्षी सदस्य सदन के वैल में आकर जोरदार नारेबाजी करने लगे। उन्होंने सरकार पर भ्रष्टाचार, हिमाचल को बेचने, हत्या और बलात्कार सहित क्राइम बढ़ने, बेशकीमती भूमि बाबा रामदेव को कौड़ियों के भाव देने सहित आरएसएस के लोगों की बैकडोर भर्तियां करने जैसे कई आरोप लगाए।

इन मुद्दों के बीच प्रश्नकाल चलता रहा और दोनों पक्षों की ओर से हंगामा जारी रहा। इसी स्थिति में करीब 2 बजकर 30 मिनट पर विपक्षी कांग्रेस ने यह कहकर सदन से वाकआउट कर दिया कि सरकार विपक्ष की आवाज सुनना नहीं चाहती तो ऐसे में सदन में रहकर क्या करें। इस पर मुख्यमंत्री सहित मंत्री और भजपा विधायकों ने हंसते हंसते हाथ हिलाते हुए उन्हें बाहर जाने दिया।

 

 

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3