Breaking News

हर्षोल्लास और उमंग के साथ मनाया गया 72 वां हिमाचल दिवस

एप्पल न्यूज़, शिमला

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर राज्य स्तरीय हिमाचल दिवस समारोह के अवसर पर राष्ट्र ध्वज फहराया और आकर्षक मार्च पास्ट की सलामी ली।पुलिस उप अधीक्षक शक्ति सिंह ने परेड का नेतृत्व किया और पुलिस, होमगार्ड, भारत स्काउट एण्ड गाइड तथा एनसीसी के कैडे्स ने मार्च पास्ट प्रस्तुत किया।  

राज्यपाल ने प्रदेशवासियों को हिमाचल दिवस की बधाई देते हुए कहा कि यह सुन्दर पहाड़ी प्रदेश आज ही के दिन 30 छोटी-बड़ी पहाड़ी रियासतों के विलय के साथ अस्तित्व में आया था। राज्य की समृद्ध संस्कृति, उच्च परम्पराएं और असीम प्राकृतिक सौंदर्य, देव भूमि की विशिष्ट पहचान है। राज्य की वास्तविक शक्ति यहां के ईमानदार, कर्मठ और विकासशील लोग हैं तथा यहां शांतिपूर्ण वातावरण व सामाजिक सौहार्द कायम है, जो इसे अन्यों से अलग पहचान देता है।

आचार्य देवव्रत ने कहा कि 15 अप्रैल, 1948 को अस्तित्व में आने के बाद इस छोटे से पहाड़ी प्रदेश ने तेज़ी से विकास का सफर तय किया। कठिन भौगोलिक परिस्थितियां, दुर्गम क्षेत्र और अन्य जटिलताएं भी यहां के मेहनतकश लोगों के हौंसले व साहस को कम नहीं कर पाई। यहां के ईमानदार और विकासशील लोगों ने प्रदेश को उन ऊंचाइयों तक पहुंचाया, जो अन्यों के लिए एक उदाहरण है। इस उपलब्धि के लिए उन्होंने समस्त प्रदेशवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस छोटे से पहाड़ी प्रदेश ने बहुत कम संसाधनों के साथ विकास का यह सफल शुरू किया था और आज हिमाचल प्रदेश देश भर में पहाड़ी विकास का अग्रदूत एवं आदर्श राज्य माना जाता है। इसका श्रेय यहां के मेहनतकश व ईमानदार लोगों को जाता है, जिन्होंने अपनी कड़ी मेहनत, निष्ठा व लगन से प्रदेश को विकास के इस आयाम तक पहुंचाया है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि प्रदेशवासी भविष्य में भी इसी उत्साह के साथ राज्य को प्रगति के पथ पर अग्रसर रखने के लिए सदैव प्रयासरत रहेंगे।राज्यपाल ने कहा कि युवा शक्ति राष्ट्र की सम्पत्ति हैं अतः जागरूक युवा ही देश को सशक्त कर विकास के पथ पर अग्रसर कर सकते हैं। युवाओें को सार्थक ढंग से राष्ट्र की मुख्य धारा से जोड़ने के लिए ठोस प्रयास करने होंगे। उन्होंने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि देश के अनेक युवा नशे की गिरफ्त में हैं, जो देश के भविष्य के लिए घातक संकेत है।

उन्होंने कहा कि नशे के विरूद्ध सभी को मिलकर कार्य करना होगा ताकि युवाओं को नशे के कुप्रभावों के बारे में जागरूक किया जा सके। इसमें शिक्षण संस्थान, समाज के सभी वर्ग, युवाओें और अभिभावकों को जोड़कर एक प्रभावी संदेश देना होगा ताकि उनकी ऊर्जा व सामर्थ्य का राष्ट्र निर्माण में सदुपयोग हो सके। उन्होंने समाज के हर वर्ग से आग्रह किया कि वे इस सामाजिक बुराई के खिलाफ मजबूती से पहल करें और प्रदेश को सशक्त करने के लिए आज शपथ लें।

उन्होंने इस अवसर पर प्रदेश के उन महान सपूतों व सुपुत्रियों के प्रति अपना सम्मान व कृतज्ञता व्यक्त की जिन्होंने हिमाचल के निर्माण और विकास में योगदान दिया है। उन्होंने प्रदेश के उन महान स्वतन्त्रता सेनानियों को भी नमन किया जिन्होंने देश को स्वाधीन बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। साथ ही देश के लिए असंख्य कुर्बानियां देने वाले शहीदों को भी श्रद्धांजलि अर्पित की, जिन्होंने देश के गौरव की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया।

उन्होंने कहा कि इन वीर सेनानायकों के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजली यही होगी कि हम शपथ लें कि हमारा हर कार्य राष्ट्रहित में हो और पूर्ण ईमानदारी के साथ स्वच्छ समाज के निर्माण में सहयोग करें।इस अवसर पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया।

इस बार के कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण गुरुकुल कुरुक्षेत्र से आए करीब 50 विद्यार्थियों द्वारा मलखम्भ और योग की प्रस्तुति थी। बच्चों की इस प्रस्तुति की लोगों ने सराहना की। इस मौके पर जिला मतदान कार्यालय द्वारा प्रस्तुत की गई लघु नाटिका, जिसमें लोगों को मतदान के लिए जागरूक किया गया, भी आकर्षण का केंद्र रही।

मुख्य सचिव बी.के अग्रवाल, पुलिस महानिदेशक एस.आर मरडी, अतिरिक्त मुख्य सचिव, सचिव तथा प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारी व अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3