Breaking News

नरेंद्र मोदी गप्पू पीएम, जिस साउथ कश्मीर को टेररिस्ट फ्री कर दिया था वहां आज सीएम मंत्री जा भी नहीं सकते- गुलाम नबी

नोटबन्दी पर पीएम मोदी की तुलना मोहमंद तुग़लक़ से ,,,,गुलाम नवी बोले ,,,पीएम के तुग़लकी फैसलों से देश पीछे गया।

एप्पल न्यूज़, शिमला

राज्य सभा में नेता विपक्ष गुलाम नवी आज़ाद ने कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन में कहा कि चुनावों के छः चरण हो चुके है भाजपा चुनाव नही जीत रही है। भाजपा का न जितना देश, किसान, युवा, बहू बेटियों, करोड़ों गरीबों व आपसी भाईचारे के हित में है। देश काजीडीपी गिरता जा रहा है। 1लाख 60 हज़ार टैक्स कम आया है। 73 फ़ीसदी जमा पूंजी एक फ़ीसदी लोगों के हाथ मे है। 50 फ़ीसदी जनता की पूंजी में सिर्फ एक फ़ीसदी वृद्धि हुई है। मोहमंद तुग़लक़ के बाद मोदी देश के पहले पीएम है जिन्होंने नोट बदल दिए। 1000 व 500 के नोट बन्द कर 2000 का नोट शुरू कर दिया। बेरोजगारी बढ़ती गई। नोटबन्दी व जीएसटी के फ़ैसले से 4 करोड़ 73 लाख बेरोजगार हो गए इससे 24 करोड़ देश की जनता प्रभावित हुई।

बैंकिंग सेक्टर में एक रिज़र्व बैंक का एक मुखिया भाग गया एक नए इस्तीफ़ा दे दिया। रुपया जब 63 पर गया तब भाजपा ने खूब हल्ला किया लेकिन अब रुपया 74 पर पहुंच गया पीएम के पास कोई जबाब नही। देश का आयात14 फीसदी बढ़ गया जबकि निर्यात कम हो गया। मोदी राज में आमदनी चवन्नी व खर्चा अठन्नी हो गया। बीमा योजना से 55 फ़ीसदी किसानों को लाभ नही हुआ। बीमा से 3 हज़ार करोड़ का बीमा कंपनियों को लाभ हुआ। सिंचाई योजना के नाम को बदला उसका लाभ भी किसानों को नहीं मिला। किसान की आय को 2022 तक दोगुना करने के लिए ग्रोथ होनी चाहिए। जो कि बहुत कम हो गई है। राइट तो एजुकेशन का पैसा कम कर दिया, नवोदय व अन्य संस्थाओं का पैसा कम कर दिया।

बेटी बचाओ का नारा भी फेल हो गया। 64 फ़ीसदी से ज़्यादा रेप इनके कार्यकाल में हुए। इस योजना में सिर्फ विज्ञापन ही हुए। महिलाओं के ख़िलाफ़ हुए मामलों में सजा में भी कमी आई जबकि ये बढ़नी चाहिए थी। 2018-19 में 280 करोड़ बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के लिए बजट रखा गया था उसमे से 70.63 करोड़ राज्यों व जिला को दिया था जबकि 155 करोड़ पब्लिसिटी के लिए खर्च कर दिया। बजट के आधे से ज्यादा पब्लिसिटी पर ख़र्च कर दिया। जीडीपी का 3.18 फीसदी पीएम स्व राजीव गांधी के समय डिफेंस पर खर्च होता था जो कि अब सिर्फ़ 1.66 फीसदी है।

जेएंडके में हर साल ज्यादा सैनिक भाजपा सरकार के कार्यकाल में मारे गए। सबसे ज़्यादा सिविलियन इस दौरान मारे गए। कश्मीर में सबसे ज़्यादा बार आतंकवादी हमले हुए। सेना कैम्प पर यूपीए सरकार के दौरान चार बार हमले हुए जबकि भाजपा के समय 17 बार आतंकी हमले हुए। उन्होंने कहा कि साउथ कश्मीर को उन्होंने मुख्यमंत्री रहते हुए कई साल पहले टेररिस्ट फ्री कर दिया था लेकिन आज ऐसी स्थिति है कि वहां इनका कोई सीएम या मंत्री भो नहीं जा सकता। मोदी सरकार में सैन्य ठिकानों पर रिकॉर्ड 17 हमले हुए और सबसे ज्यादा जवान मारे और शहीद हो गए। आज कोस मुंह से राष्ट्रहित के नाम पर वोट मांगते हैं। ये गप्पू पीएम है जो सिर्फ हांकते हैं।

हिमाचल को यूपीए समय मे तीन मेडिकल कॉलेज दिए थे। उनमें भी कंपनियों को बदलकर दूसरी को काम दिया गया काम बीच मे लटके पड़े थे। कैंसर हॉस्पिटल व एम्स के काम को आगे नही बढ़ा पाए। भाजपा सरकार की घोषणाएं हवा में व भाषणों में होती है। भाजपा सरकार वेंटिलेटर में चल रही है। इसलिए भाजपा वापिस नही आ रही है।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3