Breaking News

सतलुज घाटी के किन्नौर में बादल फटने से भारी नुकसान, NH बंद पुल- गाड़ियां बहे, 4 परियोजनाओं में उत्पादन ठप्प- सतलुज उफान पर

एप्पल न्यूज़, किन्नौर

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर ज़िला में तीन से अधिक स्थानों पर बादल फटने और बाढ़ आने से 4 जल विद्युत परियोजनाओं से बिजली 3212 मेगावॉट बिजली उत्पादन ठप हो गया है। जब कि नेशनल हाइवे 5 दो स्थानों पर अवरुद्ध है। पुरबानी को जोड़ने वाले तांगलिंग पुल भी बह गया है। कानम नामक स्थान में बाढ़ की चपेट में आने से एक पिकअप भी बह गया।

वीरवार को किन्नौर ज़िला के ऊपरी क्षेत्र कानम, मूरँग नाला, तंगलिंग और सांगला घाटी के टोंगतोंगचे नाला में बादल फटने के बाद बनी बाढ़ की स्थिति से जल विद्युत परियोजनाओं को बन्द करना पड़ा है। सतलुज नदी में अधिक सिल्ट के कारण एक हजार मैगावट की करछम वांगतू, बास्पा नदी में बनी 300 मेगावाट की बास्पा चरण दो, सतलुज नदी में बनी 1500 मेगावाट की नाथपा झाकड़ी और 412 मेगावाट की रामपुर हाइड्रो परियोजना से बिजली उत्पादन बन्द कर दिया गया है।

सिल्ट अधिक होने के कारण करछम और नाथपा बांध के द्वार खोल दिए गए है। जिस से सतलुज नदी का जलस्तर ऊंचा उठ गया है। प्रशासन ने एहतियात के तौर पर सतलुज तट में लोगो को न जाने की सलाह दी है। और तट क्षेत्र में रहने वाले लोगो को सचेत रहने के लिए कहा गया है।

राष्ट्रीय उच्च मार्ग किन्नौर के स्पिलो और शासो खड्ड के मध्य अवरुद्ध है। रिब्बा नाला और रूंग नाला में जलस्तर बड़ गया है। ऊपरी क्षेत्र में बारिश लगातार जारी है। कुछ स्थानों पर बाढ़ के कारण लोगो के सेब बागों को भी क्षति पहुँची है। हालांकि स्थिति नियंत्रण में है। किन्नौर और रामपुर पुलिस ने नदी तट के लोगो को सावधानी बरतने के लिए कहा है।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3