Breaking News

देख लो- पटवारियों के 1156 पद- बेरोजगार पहुंच चुके हैं सवा 2 लाख, मतलब – “मैं भी पटवारी”

एप्पल न्यूज़, शिमला

शनिवार को माल रोड पर 4-5 दोस्त चहलकदमी करते जा रहे थे। गंभीर विषय पर चर्चा चल रही थी। अचानक एक बोला- भाई जुगाड़ लग गया तो “मैं भी पटवारी” बन जाना। फिर अचानक ख्याल आया कि इन दिनों तो हर कोई पटवारी बनने के लिए कतारबद्ध है। देख लो यह ख़बर खुद ब्यानि करती है हिमाचल प्रदेश में बेरोजगारी की व्यथा…

हिमाचल में भरे जाने वाले पटवारियों के 1156 पदों के लिए सवा दो लाख से ज्यादा आवेदन आ गए हैं। सोमवार आवेदन की आखिरी तारीख है। जिलों में डाक के माध्यम से आए आवेदन अभी खुले भी नहीं हैं। संभावित है कि संख्या ढाई लाख तक पहुंच जाए।

आवेदन करने वालों में पीएचडी, एमएससी, एमबीए, एमसीए, बीडीएस, बीटेक, बीकॉम, बीएसई, एमए और बीए करने वाले भी शामिल हैं। जिला कांगड़ा में एक पद के लिए 400 और मंडी में 200 से ज्यादा के बीच मुकाबला है। कांगड़ा जिला में पटवारी के 220 पदों के लिए 70 हजार से ज्यादा आवेदन आवेदन आए हैं।

शिमला में 109 पदों के लिए 35 हजार, चंबा में 68 पदों के लिए 13 हजार, मंडी में 174 पदों के लिए 35 हजार, ऊना में 69 पदों के लिए 16 हजार, सिरमौर में 52 पदों के लिए 6500, कुल्लू में 42 पदों के लिए दस हजार, सोलन में 63 पदों के लिए 8 हजार, हमीरपुर में 80 पदों के लिए 25 हजार और बिलासपुर में 31 पदों के लिए दस हजार से अधिक आवेदन हैं।

किन्नौर में 19 पदों के लिए 2000 आवेदन आए हैं। लाहौल-स्पीति के लिए पटवारी भर्ती में कोई पद नहीं है।
932 पटवारी के पद मोहाल में और 262 पद सेटलमेंट विभाग में भरे जाएंगे। 18 से 45 वर्ष की आयु वाले भर्ती के लिए पात्र हैं। आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को अधिकतम आयु में पांच साल की छूट मिलेगी।

सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर अभ्यर्थियों को भी आरक्षण मिलेगा। आवेदकों का चयन लिखित परीक्षा के आधार पर किया जाएगा। इसके बाद उन्हें प्रशिक्षण दिया जाएगा। शैक्षणिक योग्यता बारहवीं पास है।

सामान्य श्रेणी से 300 और आरक्षित वर्ग के लिए 150 रुपये की फीस रखी गई है। आर्थिक रूप से कमजोर अभ्यर्थियों के लिए मोहाल के 89 पद, जबकि सेटलमेंट के 262 में से 26 पद आरक्षित हैं। आवेदन संबंधित जिला उपायुक्त के कार्यालय में जमा होंगे।

अब बड़ा सवाल ये है कि फीस के नाम पर कब तक बेरोजगार युवा लुटते रहेंगे। हर फॉर्म को भरने के लिए वही दस्तावेज, ड्राफ्ट और फोटो। कितनी बार वेरिफिकेशन करवा कर कागज घिसते रहेंगे जबकि ये भी लगभग तय होता है कि कौन कौन इस पद पर विराजमान होगा। लेकिन युवाओं के साथ खिलवाड़ जारी है।

बेरोजगार संघ ने हर बार फीस वसूली का विरोध किया है और कहा कि कम से कम एक साल के लिए एक ही आवेदन से सभी तरह के पदों के लिए आवेदन माना जाए ताकि युवाओं की जेब पर डाका न पड़े।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3