Breaking News

हिमाचल में भारी बर्फबारी, 6 एनएच 300 सड़कें बन्द

एप्पल न्यूज़, शिमला

हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी क्षेत्रों में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन भी बर्फबारी का दौर चला। शिमला, कुल्लू, चंबा, किन्नौर और लाहौल-स्पीति जिलों के विभिन्न क्षेत्रों में भारी बर्फबारी हुई है। शिमला शहर में दोपहर बाद हुए हिमपात का यहां घूमने आए पर्यटकों ने खूब लुत्फ उठाया।

हालांकि बर्फबारी के कारण अनेक सड़कों के अवरूद्व होने से परिवहन व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई। शिमला के ऊपरी क्षेत्रों के मुख्य व संपर्क मार्ग बंद पड़े हैं। इसी तरह डल्हौजी, कुल्लू, लाहौल-स्पीति व किन्नौर के कई इलाकांे का जिला मुख्यालयों से संपर्क कट गया है और इन इलाकों में जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। 
लोकनिर्माण विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक भारी बर्फबारी से प्रदेश में छह नेशनल हाईवे सहित 300 सड़कें अवरूद्व हो गई हैं। इनमें 129 सड़कें अकेले शिमला जोन में बंद हैं। शिमला के रामपुर सर्कल में 88 व रोहड़ू में 36 सड़कें बर्फबारी से बाधित हैं।

कांगड़ा जोन में 121 सड़कें शुक्रवार को अवरूद्व रहीं, जिनमें डल्हौजी सर्कल की 118 सड़कें शामिल हैं। इसी तरह मंडी जोन की 42 सड़कें अवरूद्व हैं और इनमें कुल्लू सर्कल की 25 सड़कें सम्मिलत हैं। लोकनिर्मान विभाग ने सड़कों की बहाली के लिए 244 से अधिक मशीनरी तैनात कर रखी है। बर्फबारी की वजह से लोनिर्माण विभाग को दो दिन में ही 12 करोड़ की क्षति पहुंच गई है। 
इस बीच जबरदस्त बर्फबारी से प्रदेशभर में कई वाहन फंस गए हैं जिनमें एचआरटीसी की बसें भी शामिल हैं।

अप्पर शिमला के क्षेत्रों में बर्फवारी के दूसरे जारी रहने से शिमला डिविजन के 93 रूट यानी बस सेवाएं प्रभावित रही। इन रूटों पर एच.आर.टी.सी की बसें नहीं चल पाई। वहीं रोहडू, नारकड़ा, खड़ापत्थर, नेरवा, चैपाल आदि क्षेत्रों में भारी बर्फबारी होने से 22 बसें बीच मार्ग पर ही फंस गई। जिन्हें निगम प्रबंधन व जिला प्रशासन द्वारा निकालने का प्रयास किया जा रहा है।

मौसम विभाग केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि बीते 24 घण्टों के दौरान कोठी में सर्वाधिक 75 सेंटीमीटर बर्फबारी हुई है। इसके अलावा खरदाला मं 57, कल्पा में 23, केलंग में 13, मनाली व छतराड़ी में 12 सेंटीमीटर बर्फ दर्ज हुई है। 
उन्होंने कहा कि अगले 24 घंटों के दौरान भी बर्फबारी का दौर जारी रह सकता है। साथ ही निचले व मैदानी भागों में वर्षा होगी। मैदानी इलाकों में 15 दिसम्बर तथा मध्यपर्वतीय व उच्च पर्वतीय हिस्सों में 16 दिसम्बर को मौसम साफ हो जाएगा।
उधर, बागवानी और कृषि के लिए ये बर्फबारी काफी फायदेमंद मानी जा रही है. सेब बागवानों को अब पेड़ों में तौलिये करने, खाद डालने, कांट छांट करने और नए पौधे लगाने में खूब मदद मिलेगी. वहीं फसलों के लिए भी इस बर्फबारी को उत्तम माना जा रहा है

हिमाचल: पांच जिलों का माइनस में पारा, कुफरी, मनाली और डल्हौजी में कड़ाके की ठंड
हिमाचल प्रदेश में बारिश-बर्फबारी के चलते भीषण शीतलहर चल रही है। पूरा प्रदेश ठंड से कांप रहा है। शिमला सहित राज्य के पांच जिलों में तापमान माइनस में चला गया है। पर्यटक स्थलों कुफरी, मनाली और डल्हौजी में ताजा हिमपात से कड़ाके की ठंड पड़ रही है। पहाड़ी इलाकों में व्यापक हिमपात का आम जनजीवन पर खासा असर देखा जा रहा है। बर्फ से लकदक वादियों के चलते पूरे प्रदेश का तापमान सामान्य से चार से छह डिग्री तक लुढ़क गया है।
मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक शिमला, कुल्लू, चंबा, लाहौल-स्पीति और किन्नौर जिलों का न्यूनतम तापमान शुक्रवार को शून्य से नीचे दर्ज किया गया। लाहौल-स्पीति जिले का केलंग राज्य में सबसे ठंडा स्थल रहा, जहां तापमान माइनस 3.3 डिग्री सेल्सियस रिकाॅर्ड किया गया।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3