Breaking News

HGTU की दो टूक- विंटर वेकेशन में कोई भी शिक्षक नहीं जाएगा स्कूल, या करो छुट्टियों को सर्विस बुक में क्रेडिट

एप्पल न्यूज़, शिमला

हिमाचल राजकीय अध्यापक संघ ने दो टूक कहा है कि वेकेशन का मतलब है छुट्टियां। जोकि शिक्षकों को साल में एक बार मिलती है और यह प्रथा आज से नहीं चिरकाल से सभी प्रकार के शिक्षण संस्थानों में प्रदेश और देश के अन्य प्रदेशों में भी सुनिश्चित की गई है । हाल ही में शिक्षा विभाग ने पहले तो समर क्लोजिंग स्कूलों की छुट्टियों में अव्यवाहारिकता पैदा कर दी थी जिसे अंतिम दिन में संघ के विरोध के फल स्वरुप ठीक करना पड़ा । अब दोबारा से शीत कालीन स्कूलों में भी विभाग ने आनन फानन में एक नया तुगलकी फरमान जारी कर दिया है। जिसमें 1 जनवरी से 12 फरवरी तक स्कूलों में प्री बोर्ड के रिजल्ट के आधार पर कमजोर बच्चों को रिमेडियल क्लासिज लगाने का फरमान जारी कर दिया है ।
संघ के प्रदेशाध्यक्ष वीरेंद्र चौहान , महासचिव श्याम लाल हांडा तथा मुख्य प्रेस सचिव कैलाश ठाकुर वित्त सचिव देवराज ठाकुर एवं सभी जिला अध्यक्षों व उनकी कार्यकारिणी ने एक संयुक्त बयान में कहा है कि विभाग के इस तरह के आदेशों पर हैरानी व्यक्त होती है । जिसमें विभाग बिना कुछ सोचे समझे आनन-फानन में किसी भी तरह की अधिसूचना जारी कर देता है , लेकिन उससे निकलने वाले दुष्परिणामों के बारे में नहीं सोचता है। रेमेडियल टीचिंग का प्रावधान करने से पहले विभाग को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि जटिल भौगोलिक परिस्थितियों में बिना किसी विभागीय प्रावधान के जिसमे मुख्य तौर पर बिजली की व्यवस्था, सेंकने की व्यवस्था एवम शीतलहर से बिमारी की अवस्था में क्या प्रावधान विभाग की तरफ से किये गए है ।साथ ही यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि जो टीचर वेकेशन को छोड़कर 40 दिनों में रेमेडियल टीचिंग लगाएगा उसके बदले शिक्षकों को इन 40 दिनों की छुट्टियों की क्या व्यवस्था करने जा रहा है। अच्छा होता की साथ ही विभाग इसके बारे में भी कोई स्पष्ट निर्देश जारी करता ,तभी इस तरह के आदेशों का निष्पक्ष कोई मतलब निकल पाता।


संघ के प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि यदि शिक्षक वेकेशन पीरियड में क्लासेज लगाएगा तो स्पष्ट रूप से उसे उसके बदले प्रति पूरक अवकाश या अर्जित अवकाश उतने ही दिनों का , उसकी सर्विस बुक में क्रेडिट करने का प्रावधान स्पष्ट शब्दों में विभाग की तरफ से होना चाहिए तभी शिक्षक वेकेशन पीरियड में किसी भी तरह के शिक्षण या अन्य कार्य के करने के लिए वादित किया जा सकता है, अन्यथा विभाग शिक्षकों से छुट्टियों में किसी तरह का कार्य नहीं ले सकता है ।
संघ ने यह भी स्पष्ट किया कि विभाग को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि यदि शिक्षकों को वेकेशन के बदले प्रतिपूर्ति अवकाश मिलना है तो कहीं ऐसा ना हो कि उसका असर 2020 में पढ़ने वाले नियमित बच्चों पर ना पड़े क्योंकि शिक्षक पूरी साल इन छुट्टियों का प्रयोग करेंगे और पूरी क्लासेस प्रभावित होगी ।।

संघ के प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र चौहान का कहना है कि विभाग को इस तरह के आदेश करने से पहले विस्तृत चर्चा कर और संगठन को भी विश्वास में लेकर चर्चा उपरांत ही कोई निर्णय लेने चाहिए तभी कोई सार्थक परिणाम सामने आ सकते हैं ।। संघ के उपरोक्त पदाधिकारियों ने एक पंक्ति के प्रस्ताव में स्पष्ट किया कि कोई भी शिक्षक तब तक शीतकालीन स्कूलों में छुट्टियों के दौरान स्कूल नहीं जाएगा जब तक विभाग उन छुट्टियों को शिक्षकों के सर्विस बुक में क्रेडिट करने का कोई स्पष्ट निर्देश जारी नहीं करेगा । यदि शिक्षकों के ऊपर अनावश्यक मानसिक दबाव बनाने का प्रयास किया गया तो संघ शिक्षा निदेशालय का घेराव करने पर विवश होगा जिसके लिए विभाग खुद जिम्मेवार होगा।।

previous arrow
next arrow
Slider

2 comments

  1. Sir una disctrict m humri election duty lgi hui hai. Jisme Hum kuch log out of district hai. Humre holidays school both pr khatm ho Rahe hai. Election officer ne ye holidays dene se mana kr diya hai. Please sir humra मार्गदर्शन kre. Hum 70 teachers hai…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3