Breaking News

हिमाचल में बर्फ़बारी से 1000 सड़कें बंद, शिमला सर्वाधिक प्रभावित, राजधानी में देर रात हुई दूध ब्रेड की सप्लाई

एप्पल न्यूज़, शिमला

हिमाचल प्रदेश में बर्फ़बारी भले ही रुक गई होए लेकिन दुश्वारियां कम नहीं हुई हैं। बर्फ़बारी के कारण राज्य में 1034 सड़कें अभी भी बंद हैं। इनमें पांच नेशनल हाइवे भी शामिल हैं। सैंकड़ों वाहन बर्फ में फंसे हैं। राजधानी शिमला बर्फ़बारी से सर्वाधिक प्रभावित है। दूध और ब्रेड जैसी आवश्यक वस्तुएं कई इलाकों में गुरुवार को भी नहीं पहुंच सकीं। राजधानी में देर रात दूध ब्रेड की सप्लाई हुई ।


अप्पर शिमला का तो पिछले कई दिनों से राज्य मुख्यालय से संपर्क कटा हुआ है। एनएच. शिमला.रामपुर.रिकांगपिओ को बहाल नहीं किया जा सका। शिमला.चंडीगढ़ व शिमला.बिलासपुर नेशनल हाइवे समेत राजधानी की मुख्य सड़कों पर 36 घण्टों के बाद वाहनों की आवाजाही बहाल हो पाई। हालांकि शहर के कई संपर्क मार्ग अभी भी अवरुद्ध हैं। नोकरीपेशा लोगों को लगातार दूसरे दिन भी पैदल ही अपने काम पर जाना पड़ा।

लक्कड़ बाजार से संजोलीएभराड़ीए ओल्ड बस स्टैंड से संजोली वाया छोटा शिमलाए ओल्ड बस स्टैंड से विकासनगर सड़क दिन भर ठप्प रही। इन उपनगरों के लिए बसें नहीं चलीं। जो लोग अपनी गाड़ियां लेकर निकले थेए उनमें से भी कई गाड़ियां सड़क पर स्किड हो गईं तथा इन्हें धक्का देकर सड़क किनारे खड़ा करना पड़ा। राजधानी में हालात सामान्य बनाने के लिए प्रशासन भरसक प्रयास कर रहा है।

लोकनिर्माण विभाग द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक प्रदेश में 1034 छोटी.बड़ी सड़कें बर्फबारी के चलते से अवरूद्व हैं। सबसे अधिक 759 सड़कें शिमला जोन में बंद हैं। इनमें रोहड़ू सर्कल की 280ए शिमला सर्कल की 242ए रोहड़ू सर्कल की 180ए नाहन सर्कल की 43 और सोलन सर्कल की 14 सड़कें शामिल हैं।

मंडी जोन में 179 सड़कें अवरूद्व हैं। जिनमें अकेले मंडी सर्कल की 110 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही ठप है। कुल्लू सर्कल में 69 सड़कें अवरुद्ध हैं। वहीं कांगड़ा ज़ोन में 91 सड़कों पर वाहनों के पहिये थमे रहेए जिनमें डलहौजी सर्कल की 87 व पालमपुर की 4 सड़कें शामिल हैं।

लोकनिर्मान विभाग द्वारा अवरूद्व सड़कों की बहाली के लिए 483 जेसीबी, टिप्पर और डोजर लगाए गए हैं। शिमला के ऊपरी इलाकों की सड़कों को बहाल करने में कुछ दिन लग सकते हैं।

बर्फबारी के कारण विभाग को कुल 93600.98 लाख रूपए की क्षति हुई है। इनमें शिमला जोन में 1353.32 लाख रूपए, मण्डी जोन में 1078.66 लाख रूपए, कांगड़ा जोन में 6496.95 लाख रूपए तथा एनएच में 432.25 लाख रूपए का नुकसान शामिल है।

इस बीच मौसम विभाग ने 11 से 15 जनवरी तक मौसम के फिर बिगड़ने के अंदेशा जताया है। विभाग के निदेशक ने कहा है कि इस अवधि के दौरान पर्वतीय इलाकों में हिमपात की संभावना है। शिमला सहित ऊंचे इलाकों में 13 जनवरी को भारी बर्फबारी के येलो अलर्ट भी विभाग की तरफ से जारी किया गया है।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3