Breaking News

मोदी सरकार के आने के बाद बढे किसान आत्महत्या के मामले– मनप्रीत

Big Breaking
www.a4applenews.com
शिमला
पंजाब सरकार में कांग्रेस के मंत्री मनप्रीत सिंह ने शिमला में पत्रकार वार्ता में कहा कि मूंगफली और रेवड़ियां बेचकर देश आज़ाद नहीं हुआ, भारतवासियों के बलिदान से हुआ है।

IMG_20170523_125917
लेकिन आज किसान किश्तों में मर रहा है। साल 2014 में 12,360, 2015 में 12,360 जबकि 2016 में अब 14,000 किसानों ने ख़ुदकुशी की है। मोदी सरकार के आने के बाद से किसान आत्महत्या की घटनाएं और ज्यादा बढ़ गई हैं। स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने के वादे के बाद इसे लागू नही किया और अब किसानों के कर्जमाफी के जुमले को भी जुमला ही साबित किया। वहीं दूसरी तरफ कारपोरेट घरानों के 1.54 हजार करोड़ के NPA ख़त्म कर दिए। किसानों के कर्ज माफ किए होते तो इतनी जानें न जाती।
मनप्रीत ने कहा कि यूक्रेन से मंगवाया गया गेंहू बेहद घटिया गुणवत्ता का है। इससे न रीतियां बनती है न खाने के लायक ही है। इतना ही नही 44 रूपये खरीदी दालें 230 रूपये किलो बेचीं गयी।

मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद यूपीए सरकार के फ्लैगशिप कार्यक्रमों को बंद किया या उनके नाम बदल दिए गए। साथ ही इसके लिए तय राशि को भी कम कर दिया जिससे आम लोगों को नुकसान झेलना पड़ा। सूखाग्रस्त राज्यों को मांग के बावजूद सुख राहत राशि नही दी गई। मोदी सरकार में निर्यात भी बुरी तरह से गिर गया। उन्होंने कहा कि जब ये 62 फीसदी किसान बगावत पर आये तो सरकार को उखाड़ फेंकेंगे।

मोदी जनता से माफ़ी मांगे–मनप्रीत

मनप्रीत सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने कभी भी स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की बात नही की थी। भाजपा ने इसे चुनावी मुद्दा बनाया। मोदी को किसी ने नही कहा था कि वे सिफारिशें लागू करने का मुददा उठाये। जब उन्होंने कहा है तो लागू कर या फिर कहे की ये जुमला था और इस मामले पर जनता से माफ़ी मांगे।

previous arrow
next arrow
Slider

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

WP2FB Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3