IMG_20220716_192620
IMG_20220716_192620
previous arrow
next arrow

अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों का सम्मेलन 16 से 19 नवम्बर तक शिमला में, सम्मेलन में वर्चुअल जुड़ेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

एप्पल न्यूज़, शिमला
सौ वर्ष पहले 1921 में शिमला में प्रथम अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों का सम्मेलन हुआ था। हिमाचल उसके बाद अब होने जा रहे इस सम्मेलन में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगे। 36 राज्यों की विधानसभाओं, विधान परिषदों के पीठासीन अधिकारी, उपाध्यक्ष, सचिव और वरिष्ठ अधिकारी सम्मेलन में भाग लेंगे।


विधानसभा अध्यक्ष विपिन सिंह परमार ने कहा कि
अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों का सम्मेलन 16 से 19 नवंबर तक हो रहा है। वर्ष 1921 में शिमला में प्रथम पीठासीन अधिकारियों का सम्मेलन हुआ था। इस शताब्दी वर्ष में पुनः यह मौका हिमाचल को मिल रहा है।
82 वां सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है। जिसमें से
7 वां पीठासीन सम्मेलन शिमला में हो रहा है। इससे पूर्व
1921, 1926, 1933, 1939, 1976, 1997, में शिमला में सम्मेलन हुए है।

इसमे लोकसभा स्पीकर ओम बिरला मुख्य रूप से उपस्थित होंगे। इसके अलावा राज्यसभा के उपसभापति प्रदेश के राज्यपाल, मुख्यमंत्री व नेता विपक्ष के नेता इसमे शामिल होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सम्मेलन में वर्चुअल शामिल होंगे। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर 18 नवंबर को कार्यक्रम में शामिल होंगे। इसके अतिरिक्त सम्मेलन में 36 राज्य विधान परिषदों तथा विधानसभाओं के पीठासीन अधिकारी उप पीठासीन अधिकारी तथा प्रधान सचिव भाग लेंगे कुल मिलाकर एक राज्य से 4 प्रतिनिधि अपनी स्पाउस के साथ भाग लेंगे जिनकी संख्या 288 होगी। संसद टीवी प्रतिनिधियों को मिलाकर कुल संख्या 378 होगी।

उन्होंने बताया कि इस सम्मेलन में विधान, न्याय और कार्यपालिका पर चर्चा होगी। साथ ही सुनिश्चित किया जाएगा कि कोविड नियमों की अवहेलना न हो। डबल डोज़ वेक्सीनेशन सर्टिफिकेट अनिवार्य होगा।

Share from A4appleNews:

Next Post

भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने मण्डी में प्रस्तावित ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट के लिए संशोधित मास्टर प्लान किया प्रस्तुत- मुख्यमंत्री

Wed Nov 10 , 2021
एप्पल न्यूज़, शिमला मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण ने मण्डी में प्रस्तावित ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट का आवश्यक भूमि सहित संशोधित मास्टर प्लान प्रस्तुत किया है ताकि इसकी हवाई पट्टी (रनवे) के अभिविन्यास (ओरियंटेशन) का निर्धारण और परामर्शकर्ता द्वारा ओएलएस चार्ट तैयार किया जा सके। वह […]

You May Like