IMG-20220807-WA0013
IMG-20220807-WA0014
ADVT.
IMG-20220814-WA0007
IMG_20220815_082130
previous arrow
next arrow

हिमाचल के वह गाँव जहां बीडी, सिगरेट, तंबाकू व चमड़े की वस्तुओं पर है पूर्ण “प्रतिबंध”

IMG_20220803_180317
IMG_20220803_180211
SJVN-final-Adv.15.08.22
previous arrow
next arrow

चौहार घाटी तथा छोटाभंगाल में कुछ गाँव जहां बीडी, सिगरेट, तंबाकू व चमड़े की वस्तुओं पर पूरी तरह है प्रतिबंध
एप्पल न्यूज़, मंडी

जिला मंडी के चौहार घाटी तथा जिला कांगड़ा के छोटा भंगाल में कुछ गाँव ऐसे भी हैं जहां बीडी, सिगरेट, तंबाकू व चमड़े की वस्तुओं पर पूरी तरह प्रतिबंध है।

अगर कोई ब्यक्ति भूल से ऐसी वस्तुएँ इन गांव में लेकर चला जाता है और गॉंव वाले उसे इन वस्तुओं सहित पकड़ लेते है तो उसे निर्धारित जुर्माना भरने के साथ माफ़ी भी मांगनी पड़ती है।

चौहारघाटी के हुरंग, ख्बाण, पंजौड़ व रूलिंग तथा छोटाभंगाल के जुधार, छेरना तथा अन्दरली मलाह ऐसे गाँव है जहां पर आज भी देव आज्ञा लागू है।

इन गांव में देव आज्ञा है कि कोई भी गांव वासी या बाहर से आने वाला ब्यक्ति बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू व चमड़े की क़ोई भी वस्तु गाँवों में नहीं ले जा सकता है।

लोगों का कहना है कि अगर क़ोई ब्यक्ति देवी–देवताओं की आज्ञा की अवेहलना करता है तो सभी गांव वासियों को प्राकृतिक आपदा का दंश झेलना पड़ता है। उल्लंघन करने वाले ब्यक्ति को देवी–देवताओं की आज्ञानुसार जुर्माना भरना पड़ता है।

यह बात आपको बेशक कुछ अटपटी लगे लेकिन यह सही है कि इन दोनों क्षेत्रों में देवी-देवताओं के आदेश ही सर्वोपरी माने जाते हैं।

दोनों घाटियों के इन सभी गाँवों में देवी-देवताओं की आज्ञा के चलते किसी को भी गांव के अंदर बीडी, सिगरेट, तंबाकू व चमड़े का कोई भी सामान ले जाने की अनुमति नहीं है। यह प्रथा अब से नहीं है बल्कि सदियों से चली आ रहीं है। गांववासीयों या बाहर से आये लोगों को सभी वस्तुएं गांव की सरहद के बाहर छुपाकर रखनी पड़ती है।

ग्रामीणों से प्राप्त जानकारी के अनुसार जब भी इस आज्ञा की अवेहलना हुई है गांववासियों को किसी न किसी प्रकार का प्राकृतिक दंश झेलना पड़ा है।

अगर कोई इन गाँवों में मनाही के बावजूद भी ऐसी वस्तुएँ ले जाता है तो वहां के मंदिर के गुर व पुजारी को इसका तुरंत समाधान करना पड़ता है।

ग्रामीण सुंदर सिंह, हरिराम, श्याम सिंह व वजिन्द्र सिंह बताते हैं कि जब भी इन गाँवों में कोई ऐसी वस्तुएँ लेकर प्रवेश करता है तो यहाँ के मंदिरों के गुर व पुजारी को मालूम पड़ जाता है। उसके बाद अवहेलना करने वाले ब्यक्ति को पकड़ कर मन्दिर में लाया जाता है।

मंदिर में पुजारी या गुर देवाज्ञा के अनुसार जो जुर्माना बताता है वह भरना पड़ता है तथा साथ मे माफी भी मांगनी पड़ती है।

इनका कहना है कि ऐसा कई बार हो चुका है। कई लोगों ने जुर्माना भरने के साथ मंदिर में माफी मांगी है। दोनों घाटियों के इन गाँवों में सदियों से चली आ रही यह प्रथा आज भी बदस्तूर जारी ही है।

गाँवों में देवी–देवताओं के विराज़मान होने के चलते इन गाँवों के लोग देवी-देवताओं के आदेशों को देवाज्ञा मानते हैं और आज के आधुनिक युग मे भी यथावत अपनी परंपरा और संस्कृति का पालन कर रहे हैं।

यूं, अपनी संस्कृति को अगर बढ़ाने में युवा पीढ़ी भी पूरा सहयोग दे रही है। कहा भी जाता है कि हिमाचल देवभूमि है और कण कण में भगवान की मौजूदगी। भिन्न प्रकार की संस्कृति और परम्पराएं ही हमारी समृद्ध पुरातन विरासत को संजोए रखने और अपनी अलग पहचान को बरकार रखे है। तभी तो है

Share from A4appleNews:

Next Post

ऊपरी शिमला में बरसात में बंद हुई सड़कें, जगह जगह फंसा सेब, सरकार का नहीं ध्यान, प्रशासन भी कुंभकर्णी नींद सोया- छाजटा

Sun Jul 31 , 2022
एप्पल न्यूज़, शिमला जिला शिमला में सेब सीजन चरम पर है। पिछले दो सप्ताह से हो रही लगातार बारिश के कारण ऊपरी शिमला में सड़कों की हालत खस्ता हो चुकी है। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव यशवंत छाजटा ने कहा कि बारिश से काफी ज्यादा नुकसान हो रहा है। […]

You May Like

Breaking News