ओलावृष्टि से रामपुर बुशहर क्षेत्र के बागवानों को हुए नुकसान की भरपाई करे सरकार- भीमसेन

एप्पल न्यूज़, निशांत शर्मा रामपुर बुशहर
वर्तमान में सम्पूर्ण विश्व कोरोना से जुझ रहा है। समस्त विश्व की गति रुक सी गई है । छोटे बडे सभी उद्योग बन्द होने से आर्थिक संकट आ खडा हूआ है। प्रधानमन्त्री मोदी के \”जान है तो जहान है \” पर हिन्दुस्तान में विश्व के अन्य देशो की तरह कम जानी नुक्सान से होना राहत प्रदान करता है। सरकार और आमजन इस विपदा की घडी में मिलजुल कर निजात पाने के लिए निश्चित तौर पर कठिनाईयो का सामना कर रहे है।

\"\"

भाजपा नडाल अध्यक्ष रामपुर बुशहर भीमसेन ठाकुर ने कहा कि हिमाचल में भी जयराम सरकार के अभी तक के सभी निर्णय और कार्य जनता की भलाई में सार्थकता और सटिकता दिखा रहे है। जयराम सरकार द्वारा किसानो और बागवानो को खेतीबाडी सम्बधित का कार्यो के लिए उचित समय पर कर्फ्यू में ढील देने पर हमने सहर्ष आभार भी किया। परन्तु पिछले दिनो बुधवार दिनांक 15 अप्रैल को जिला शिमला के रामपुर और ननखडी उपमंडल के अधिकांश क्षेत्रो में जमकर ओलावृष्टि ने किसानो की कमर तोडने में कोई कसर नही छोडी ।

उन्होंने कहा कि प्रकृति के रौद्र रुप के सामने इन्सान लाचारी के सिवा कुछ नही कर सकता । हमारे यहाँ अधिक लोग बागवानी व्यवसाय से जुडे है, सेब, चैरी, पलम, बादाम, नाशपति पर आमदनी निर्भर करती है । साल भर राशन और अन्य कार्यो के लिए इन फसलो पर पूरी तरह से निर्भर है ।

भाजपा मंडल अध्यक्ष भीमसेन ठाकुर ने ननखडी , अड्डु , खोलीघाट , जाहू डीम और रामपुर , कोटगढ , कुमारसैन के बागवानो को जो आर्थिक नुक्सान इस ओलावृष्टि के बाद उठाना पडेगा, उससे उभर पाना मुश्किल है । किसान बागवान इन्ही फसलो पर जीवनयापन को निर्भर है । तथा बागवान किसान भाईयो ने बैको से कृषि सम्बधी उपकरणो के लिए ऋण ले रखे है । उन्हे चुका पाना मुश्किल होगा।

भीमसेन ठाकुर ने बागवान किसानों कि आर्थिक नुक्सान पर प्रदेश सरकार से यथा सम्भव राहत की माँग करते है। ताकि बागवानो और किसानो के हितो की रक्षा हो सके।

Share from A4appleNews:

Next Post

PTA,पैरा,पैट शिक्षकों के मामले में सुप्रीम कोर्ट की सुप्रीम मोहर, पक्ष में सुनाया फैसला, होंगे नियमित- हिमाचल हाईकोर्ट का फैसला बरकरार

Fri Apr 17 , 2020
एप्पल न्यूज़, ब्यूरो सुप्रीम कोर्ट द्वारा पिछले पांच वर्षों से लंबित हजारों अस्थाई शिक्षकों पीटीए,पैरा, पैट और ग्रामीण विद्या उपासक के मामले पर अंतिम सुनवाई केस नंबर 1503 कोर्ट नंबर 2 में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की गई। सुप्रीम कोर्ट ने विरोधियों की सभी याचिकाओं को खारिज़ करते हुए […]

You May Like

Breaking News