लाॅकडाउन के दौरान जैविक खेती के लिए लोगों को प्रोत्साहित करता जिला प्रशासन सिरमौर

उत्पादकता बढ़ाने और सिरमौर में किसानों की समस्याओं को हल करने के लिए क्रियान्वित है किसान हेल्पलाइन

एप्पल न्यूज़, शिमला

वर्तमान परिदृश्य में उत्पादन बढ़ाने के लिए किसानों द्वारा उर्वरकों और कीटनाशकों के उपयोग में निरंतर वृद्धि के बावजूद दिन-प्रतिदिन फसल की उपज में गिरावट आ रही है। रासायनिक खेती में विभिन्न मदों पर खर्चें न केवल फसलों की लागत को बढ़ाते हैं बल्कि मिट्टी की गुणवत्ता को भी नष्ट करते हैं। रसायनों, कीटनाशकों और उर्वरकों के अत्यधिक उपयोग से खाद्य श्रृंखला में हानिकारक यौगिकों के प्रवेश के साथ-साथ पारिस्थितिकी पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।अप्रत्याशित जलवायु और रसायनों की बढ़ती लागत के समय में, किसानों के पास जैविक और प्राकृतिक खेती ही सही विकल्प के तौर पर उपलब्ध है।

राज्य में खेती की लागत को कम करने और प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए, सरकार ने 2020-21 तक 20,000 हेक्टेयर भूमि को प्राकृतिक खेती के तहत लाने का फैसला किया है। राज्य में हजारों किसानों ने प्राकृतिक खेती को अपनाया और इसका लाभ उठाया है। सिरमौर के किसानों ने भी प्राकृतिक और जैविक खेती में गहरी रुचि दिखाई है।कोरोना वायरस के कारण लगाए गए देशव्यापी लाॅकडाउन और कर्फ्यू के मद्देनजर जिला प्रशासन सिरमौर ने एक और अनूठी पहल शुरू की है, जिसके तहत लोगों को अपने घरों के पास जैविक खेती अपनाकर सब्जियों को उगाने के लिए अपने समय का सदुपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। जिला प्रशासन की इस पहल को लोगों ने सराहा है।कृषि और पशुपालन विभाग ने नाहन के ऐतिहासिक चैगान मैदान में एक विशेष स्टाल लगाया है, जहाँ अरावली संगठन के स्वयं सेवकों द्वारा वर्मीकम्पोस्ट और काऊडंग लाॅग के साथ लोगों को विभिन्न सब्जियों के ‘बीजों की किट भी प्रदान किए जा रहे हैं। जिला प्रशासन की इस पहल के तहत 1200 से अधिक बीज किट अब तक लोगों को उपलब्ध कराए गए हैं। इस सीड किट में छह प्रकार की सब्जियां जैसे कि भिंडी, करेला, लौकी, मक्का, फ्रेंच बीन और स्पंज लौकी शामिल हैं। सब्जियों के बीजों की एक किट जिसकी कीमत 25 रुपये है, उसे स्टाल पर 10 रुपये में उपलब्ध करवाया जा रहा है। इसके अतिरिक्त, लोगों को खाली प्लास्टिक की बोतलों,  गमलों, बाल्टियों और खाली बैगों का उपयोग करके घरों से निकलने वाले कचरे से वर्मीकम्पोस्ट बनाने की विधि और खेती के तरीकों के बारे में भी बताया जा रहा है।इस स्टाल पर पशुपालन विभाग द्वारा वर्मीकम्पोस्ट और काउडंग लाॅग भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। लोग अपने घरों में तैयार किए गए वर्मीकम्पोस्ट का उपयोग करके जैविक खेती कर सकते हैं।  इसके अलावा वे बरसात के मौसम में भी गोबर के उपलों को जलाकर मक्खियों और मच्छरों से छुटकारा पा सकते हैं।लाॅकडाउन के दौरान किसानों को किसी तरह की कठिनाई का सामना न करना पड़े, यह सुनिश्चित करने के लिए जिला प्रशासन ने एक किसान हेल्पलाइन शुरू की है, जिसमें जिले के कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के फोन नम्बर दिए गए हैं, ताकि किसान उनसे सीधे संवाद कर सकें और उनकी समस्याओं का समाधान हो सके। इस हेल्पलाइन के तहत किसानों की विभिन्न समस्याओं के बारे में अब तक 2000 से अधिक काॅल प्राप्त हुई हैं, जिन्हें विभाग के अधिकारियों द्वारा हल किया गया है।कृषि उत्पादन में किसानों को विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है जैसे कि फसलों के लिए प्रतिकूल मौसम, विनाशकारी कीट के हमले, पौधों की बीमारी के संक्रमण, प्रतिरक्षा में गिरावट, उपजाऊ शक्ति का क्षय, पानी की कमी और बाजार के बदलते परिवेश के बारे में जानकारी देने के लिए इसे शुरू किया है। इससे किसानों की फसल की कृषि उत्पादकता बढ़ाने और उन्हें कृषि से संबंधित सही जानकारी और सलाह दी जा रही है।

किसान हेल्पलाइन में उप निदेशक सिरमौर डाॅ. राजेश कौशिक, मोबाइल नंबर 94184-76092 और टेलीफोन नंबर 01702-222225, डाॅ. पवन कुमार, जिला कृषि अधिकारी नाहन 85804-37173, दूरभाष नंबर 01702-222225 सहित कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के संपर्क नंबर हैं। रमेश चंद, परियोजना उप निदेशक एटीएमएए, नाहन 94184-78012 और 01702-223746, बलदेव सिंह पाराशर, विषय विशेषज्ञ कृषि विकास खंड नाहन 94180-62576 और 0170-222057, राम नाथ विषय विशेषज्ञ कृषि, विकास खंड पांवटा साहिब 82196-63716 और 01702-223224, प्यारे लाल, विषय वस्तु विशेषज्ञ, कृषि, विकास खंड पच्छाद 98051-24089 और 01799-236064, वीरेंद्र कुमार अत्री, विषय वस्तु विशेषज्ञ, कृषि विकास खंड राजगढ़ 94590-21189 और 01799-221046, अनूप कटना, विषय वस्तु विशेषज्ञ, कृषि विकास खंड संगड़ाह 94181-32340 और 01702-248013, राम नाथ विषय वस्तु विशेषज्ञ कृषि शिलाई 82196-63716 और 01702-278543, राज कुमार सचिव कृषि उत्पादन विपणन समिति, पांवटा साहिब 94596-64000 और 01704-222381, साहब सिंह, सब डिविजनल भू-संरक्षण अधिकारी पांवटा साहिब 70185-39321 और 01704-222476 और वीरेंद्र कुमार अत्री सब डिविजनल भू-संरक्षण अधिकारी राजगढ़ 94590-21189 और 01799-221230 हैं। किसान कृषि सम्बन्धी जानकारी प्राप्त करने के लिए सोमवार से शनिवार तक सुबह 11 से दोपहर 1 बजे के बीच हेल्पलाइन नंबरों पर संपर्क कर सकते है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

डीडीयू शिमला को डेडिकेटेड कोविड-19 अस्पताल बनाने का सरकार का फैसला गलत, करे पुनर्विचार- संजय

Mon May 11 , 2020
एप्पल न्यूज़, शिमलाभारत की कम्युनिस्ट पार्टी(मार्क्सवादी) का मानना है कि शिमला शहर के बीचोबीच स्थित जिला अस्पताल रिपन(डी डी यू) को डेडिकेटेड कोविड19 अस्पताल बनाने का सरकार का फैसला बिना सोचे समझे व जल्दबाजी में लिया गया फैसला है और मांग करती है कि इस फैसले को तुरन्त वापिस ले […]

Breaking News