जनता ने बना लिया जयराम सरकार की रुखसती का मन, प्रदेश की जनता ना उनके कामों से खुश है, ना उनकी नीति व नियत से- अग्निहोत्री

एप्पल न्यूज़, ऊना

प्रदेश में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने में जयराम सरकार पूरी तरह विफल साबित हुई है। कोविड केयर सेंटर में मरीज हताशा में फंदे लगा रहे है। अव्यवस्था के आलम के चलते जहाँ रोगियों की मौत हो रही है वही जरनल बीमारियों में भी इलाज न मिलने से लोग मर रहे है। डॉक्टर तक मौत का ग्रास बन रहे है। 500 वेंटिलेटर पेटियों में बंद है। चलाने वाला कोई नहीं। प्रदेश की जनता अब पूरी तरह से जयराम नहीं बल्कि राम भरोसे चल रही है।

\"\"

यह आरोप प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने भाजपा की सरकार पर लगाया है। शनिवार को जारी एक प्रेस बयान में नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं की धज्जियां प्रदेश में उड़ गई है और जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलना दूर की थू कौड़ी साबित हो रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना के इस संकट के दौर में जनता के बीच स्वास्थ्य सुविधाओं से खौफ पैदा हो गया है ।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के अस्पताल हो चाहे मेडिकल कॉलेज में बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाओं के दावे फिलहाल खोखले नजर आ रहे हैं, बेहतर सुविधाएं देने में सरकार विफल हो रही है और सारा दोष सरकार के नेतृत्व का है। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के कई महीनों तक स्वास्थ्य मंत्री नहीं रहे ,अब जब स्वास्थ्य मंत्री आए हैं तो स्वास्थ्य सुविधाएं पटरी से उतर रही है, लोगों को अस्पतालों में बेहतर सुविधाएं नहीं मिल रही हैं और अस्पतालों में किसी भी प्रोटोकॉल का पालन नहीं हो पा रहा है ,यही कारण है कि लगातार कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं और अस्पतालों में विशेष रूप से जिस प्रकार सफाई चाहिए नहीं हो पा रही है,न सेनेटाइजेशन हो रहा।

इस मौके पर सरकार के लिए जहां असफलता की बात है वही आने वाले समय में इसका दोष सरकार को सहन करना पड़ेगा। नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि कभी कम मामलों के लिए प्रधानमंत्री से पीठ थपथपा ने शोर मचाने वाले जयराम ,कभी न्यूजीलैंड से तुलना करने वाले जयराम बताएं कि प्रदेश में क्या हाल है अब? सुविधाओं का जनाजा निकल रहा है और कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं । उन्होंने कहा कि आखिर क्या कारण है कि कोविड केअर सेंटर में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगाए गए।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग अपने कोरोना योद्धाओं को भी सुरक्षा देने में नाकाम है, डाक्टर, नर्स,पैरामेडिकल स्टाफ, सफाई कर्मी को अपनी सुरक्षा खुद करनी पड़ रही। यदि सरकार इनके विश्वाश को मजबूत करें तो स्थिति बदल सकती पर ऐसा नही हो पा रहा।

उन्होंने कहा कि मौत का आंकड़ा डेढ़ सौ के करीब हो गया है ऐसे में कोरोना संकट से निपटने में भाजपा की सरकार पूरी तरह से विफल होती दिख रही है ।उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के बीच में जहां बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं मिलनी चाहिए थी उसी समय लोगों को निराशा मिली है ।

वहीं सरकार ने इस कोरोना संकट के बीच बिजली के बिल बढ़ाने, बस किराया बढ़ाने, पेट्रोल व डीजल के दाम लगातार बढ़ाने महंगाई बढ़ाने का काम जिस प्रकार से किया है उसके लिए जनता कभी भी इस सरकार को माफ नहीं करेगी । उन्होंने कहा कि समय आने पर जनता भाजपा सरकार को रुखसत करेगी।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार के ही मंत्री स्वास्थ्य सुविधाओं की पोल खोल रहे हैं और जनता को कोरोना होने पर घरों में रहने की सलाह दे रहे हैं, इससे साफ है कि सरकार की विफलता अब मंत्री भी स्वीकार कर रहे हैं ।उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री चाहे जितने भी पीठ थपथपा लें उन्हें यह मालूम होना चाहिए कि प्रदेश की जनता ना तो उनके कामों से खुश है, ना ही उनकी नीति से ओर ओर न नियत से।उन्होंने कहा कि कांग्रेस जनहित में आवाज बुलंद करेगी।

Share from A4appleNews:

Next Post

शिमला की सीमा मोहन बनी एनयूजे की राष्ट्रीय सचिव, रजत और सीमा किरण एनयूजे उपाध्यक्ष

Mon Sep 28 , 2020
प्रेस काउंसिल सदस्य आनंद राणा संगठन सचिव मनोनीत दीपक राय, शीतल करदेकर और सीमा मोहन सचिव नियुक्त किए गए एप्पल न्यूज़, नई दिल्ली  झारखंड यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के अध्यक्ष और राष्ट्रीय खबर के मुख्य संपादक रजत कुमार गुप्ता तथा वीर अर्जुन की फीचर संपादक सीमा किरण को नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) का उपाध्यक्ष मनोनीत किया गया है। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया में एनयूजे के सदस्य और दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन के पूर्व महासचिव आनंद राणा को संगठन सचिव मनोनीत किया गया है।  महाराष्ट्र की शीतल करदेकर, पश्चिम बंगाल के दीपक राय और हिमाचल प्रदेश शिमला की सीमा मोहन को सचिव नियुक्त किया गया है।  इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट्स से संबद्ध एनयूजेआई के महासचिव प्रसन्ना मोहंती ने बताया कि 11 सितंबर को राष्ट्रीय अध्यक्ष रास बिहारी की अध्यक्षता हुए राष्ट्रीय अधिवेशन में संगठन के संविधान संशोधन की सर्वसम्मति से पारित किया गया।  ऑनलाइन अधिवेशन में देशभर में लगभग दो हजार सदस्यों ने हिस्सा लिया। अधिवेशन में पत्रकारों के हित और कल्याण से जुड़े कई प्रस्ताव पारित किए गए। एनयूजे अध्यक्ष रास बिहारी ने कहा कि देशभर में संगठन का तेजी से विस्तार किया जा रहा है। अब देश के ज्यादातर राज्यों में एनयूजे से संबद्ध इकाइयां काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमित होकर जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिवारों को मुआवजा दिलाने के लिए अभियान चलाया जाएगा। सीमा मोहन ने राष्ट्रीय सचिव के तौर पर अपनी नियुक्ति के लिए एनयूजेआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष रास बिहारी, महासचिव प्रसन्ना मोहंती, प्रदेश अध्यक्ष रणेश राणा व तमाम राष्ट्रीय व प्रदेश कार्यकारणी व सद्स्यों का आभार जताया। उन्होंने कहा कि ये उनके लिए गौरव […]

Breaking News