IMG_20220716_192620
IMG_20220716_192620
previous arrow
next arrow

कारगिल युद्ध कोई बड़ी लड़ाई नहीं थी, अपनी ही जमीन से खदेड़े थे पाकिस्तानी, सैनिक वोट बटोरने के लिए खुशाल को बहुत बड़ा सैनिक दर्शा रही है भाजपा – प्रतिभा सिंह

एप्पल न्यूज़, संजीव कुमार मंडी

मंडी संसदीय सीट से कांग्रेस की प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने कारगिल युद्ध पर विवादित बयान दिया है। मंडी जिला के नाचन विधानसभा क्षेत्र के तहत आने वाले नांडी गांव में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए प्रतिभा सिंह ने कारगिल युद्ध को छोटी लड़ाई बता दिया।

भाजपा प्रत्याशी ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर पर जुबानी हमला बोलने के चक्कर में उन्होंने कारगिल युद्ध को ही छोटा बता दिया। प्रतिभा सिंह ने कहा कि भाजपा ने अपना टिकट एक पूर्व फौजी को दिया है क्योंकि उन्होंने कारगिल युद्ध में भाग लिया था। लेकिन कारगिल युद्ध कोई बड़ा युद्ध नहीं था। सिर्फ अपनी धरती से ही पाकिस्तानियों को खदेड़ना था।

ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को लेकर उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसे पेश किया जा रहा है जैसे वे बहुत बड़े सैनिक रहे हों और विजय हासिल की हो। भाजपा ये सब सिर्फ इसलिए कर रही है ताकि सैनिकों, पूर्व सैनिकों और परिजनों के वोट हासिल कर सके। लेकिन जनता ने सोच समझकर विकास के नाम पर अपनी मुहर लगानी है।

वहीं इसके बाद प्रतिभा सिंह नाचन विधानसभा क्षेत्र में करीब आधा दर्जन जनसभाओं को संबोधित किया और अपने लिए वोट मांगे। उन्होंने जाच्छ में आयोजित जनसभा के दौरान कहा कि प्रदेश में जो विकास हुआ है वो स्व. वीरभद्र सिंह और कांग्रेस पार्टी की देन है।

उन्होंने कहा कि भाजपा सिर्फ चुनावी मुद्दे तैयार करके लोगों को बांटने का काम करती है। कभी राम के नाम पर लोगों को गुमराह किया जाता है तो कभी मोदी के नाम पर। जो भी सपने लोगों को दिखाए गए थे वे आज दिन तक पूरे नहीं हुए हैं।

बता दें कि कारगिल युद्ध में देश के 527 तो प्रदेश के 52 रणबांकुरों ने अपने प्राणों की आहूति देकर शहादत पाई थी। ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर ने इस युद्ध के दौरान जिस 18 ग्रेनेडियर का नेतृत्व किया उसने तोलोलिंग की पहाड़ी पर कब्जा किया था जिसे इस युद्ध की जीत का टर्निंग प्वाईंट माना जाता है। लेकिन अब प्रतिभा सिंह ने इस युद्ध को छोटा बताकर विवाद खड़ा कर दिया है।

इस मौके पर उनके साथ पूर्व मंत्री कौल सिंह ठाकुर, प्रकाश चौधरी, गंगू राम मुसाफिर, पूर्व विधायक टेक चंद डोगरा और कांग्रेस के अन्य नेता भी मौजूद रहे।

Share from A4appleNews:

Next Post

हिमाचल के स्कूलों में फर्स्ट टर्म नवंबर और सेकंड टर्म की परीक्षाएं 15 अप्रैल के बाद, शिक्षक महासंघ के कई सुझावों को बोर्ड ने स्वीकारा

Mon Oct 11 , 2021
एप्पल न्यूज़, शिमला पिछले सप्ताह स्कूल शिक्षा बोर्ड की वर्चुअल बैठक में हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ द्वारा टर्म परीक्षाओं को लेकर सुझाव दिए गए थे जिसमें से बहुत से सुझावों को आज बोर्ड की ऑफलाइन बैठक में मान लिया गया है। स्कूल शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन सुरेश सोनी की अध्यक्षता […]

You May Like