सरकार को स्कूल खोलने के लिए अभिभावकों को डराने की बजाए समझाना चाहिए, दिवाली तक बन्द रखें स्कूल – सुधीर शर्मा

एप्पल न्यूज़, धर्मशाला

स्कूलों को खोलने को लेकर जिस तरह प्रदेश सरकार हड़बड़ी दिखा रही है उससे लगता है कि सरकार व अधिकारी खुद संक्रमण को बढ़ावा देने को न्यौता दे रहे हैं। यह बात पूर्व मंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव सुधीर शर्मा ने कही। उन्होंने कहा पिछले छ महीनों तक केंद्र सरकार शैक्षणिक संस्थानों को खोलने के लिए अपने निर्णयों को लागू करती रही लेकिन जब सरकार की अपनी नाकामियों की बजह से कोरोना हर जगह फैल गया तो केंद्र ने राज्यों को शैक्षणिक संस्थान खोलने के लिए अधिकृत कर दिया, खुद अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ लिया।
हैरानगी तो इस बात की है प्रदेश में भी सरकार व शिक्षा विभाग ने स्कूलों को खोलने के लिए अभिभावकों को अपने जोखिम पर स्कूल भेजने के तुगलकी निर्देश जारी कर दिए। मतलब यदि कोई बच्चा संक्रमित होता है तो उसके लिए सरकार नहीं अभिभावक जिम्मेदार होंगे यह कैसा फैसला है?
एक तरफ केंद्र व राज्य सरकार कह रही है कि त्योहारों में संक्रमण पीक पर पहुंचेगा लेकिन वहीं दूसरी ओर त्योहारों के दिनों में स्कूल खोले जा रहे हैं।

यह ठीक है कि बच्चों की बोर्ड कक्षाओं के लिए स्कूल खुलने जरूरी हैं लेकिन क्या इतनी जल्दबाज़ी में खुलने चाहिए कि जब सरकार खुद ही इन दिनों संक्रमण बढ़ने की आंशका व्यक्त कर रही है । कालेज अभी नवंबर तक नहीं खुल रहे और स्कूलों को अभी खोल दिया गया है यह दूरदर्शिता नहीं अदूरदर्शिता है। यह भी गलत है कि मां-बाप व अभिभावकों से किसी कागज पर हस्ताक्षर करवाकर यह कह देना कि अभिभावक बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार हैं। ज्यादातर अभिभावकों को तो यह भी नहीं पता कि उनसे ऐसा शपथ-पत्र लिया जा रहा है जिसमें लिखा है कि यदि बच्चों को कोरोना होता है तो वे खुद ही इसके लिए जिम्मेदार होंगे।
इसी तरह उन शिक्षकों व गैर शिक्षकों के लिए भी कोई बचाव नियम जारी नहीं किए जो पहले से गंभीर असाध्य रोगों से ग्रस्त हैं  स्कूल खुलने पर उनको संक्रमण से बचाना भी तो सरकार का दायित्व बनता है।
सरकार व विभाग को चाहिए कि दीपावली तक स्कूल न खोलने पर विचार करे और अभिभावकों से शपथ-पत्र लेने की बजाए उन्हें आश्वासन दिया जाए कि बच्चों के बचाव के लिए विभाग व सरकार हर संभव कार्य करेगी। इस वक्त उन्हें डराने की बजाए समझाने पर कार्य होना चाहिए।

प्रदेश के स्कूलों में आने वाले ज्यादातर बच्चे घर से कई किलोमीटर दूर बसों में सफर करके स्कूल आते हैं लेकिन बसें अभी तक पूरी तरह चली नहीं फिर बच्चे कैसे स्कूल आएंगे क्या इस ओर सरकार का ध्यान नहीं। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब परिवारों के बच्चे निजी गाडिय़ां करके कैसे स्कूल पहुंचेंगे।

Share from A4appleNews:

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

पांगणां करसोग के विपुल शर्मा का FRI देहरादून में हुआ चयन, नौणी से अखिल भारतीय परीक्षा के तहत फारेस्ट जेनेटिक्स में पीएचडी में मिला स्थान

Sun Oct 18 , 2020
एप्पल न्यूज़, करसोग मंडी जिला में सुकेत रियासत की राजधानी रही ऐतिहासिक नगरी पांगणा के होनहार छात्र विपुल शर्मा जी ने भारत के सबसे ऐतिहासिक एवं प्रतिष्ठित वानिकी संस्थान एफ आर आई देहरादून के लिए आयोजित की गई अखिल भारतीय परीक्षा पास करके पी एच डी में अपना स्थान पक्का […]

Breaking News