Breaking News

पोंग झील में पहली बार वन्य प्राणी अभयारण्य में मनाया गया पक्षी महोत्सव, 114 प्रजातियों के 1,15,701 पक्षी पहुंचे

एप्पल न्यूज़, पोंग काँगड़ा

पोंग झील वन्य प्राणी अभ्यारण्य प्रवासी पक्षियों के लिए महत्वपूर्ण स्थलों मेंएक है। इस झील और आसपास के क्षेत्र सौ से अधिक प्रवासी व स्थानीय प्रजातियों के लाखों पक्षियों का गंतव्य है। इसी कारण, पोंग डैम झील बर्ड वाॅचर, शोधकर्ताओं, विशेषज्ञों और पर्यटकों के घूमने एवं शोध के लिए लोकप्रिय स्थानों मेंएक बन गया है।

 पक्षियों के संरक्षण के मुद्दों पर स्थानीय लोगों, छात्रों, युवाओं और पर्यटकों को शिक्षित और संवेदनशील बनाने के लिए पहली बार अभ्यारण्य क्षेत्र के नगरोटा सूरियां में एक पक्षी महोत्सव का आयोजन किया गया। महोत्सव के प्रमुख आकर्षण बर्ड वाॅचिंग, बर्ड रिंगिंग, बोट टूर और साइकलिंग रहे। अभयारण्य के आसपास के क्षेत्रों में स्थित स्कूलों के 200 सौ से अधिक विद्यार्थियों और शाहपुर, पठानकोट और होशियारपुर से केंद्रीय विश्वविद्यालय के लगभग 200 विद्यार्थियों ने विभिन्न गतिविधियों में भाग लिया। वार्षिक वाटर फाऊल पक्षियों के अनुमान के अभ्यास को भी महोत्सव के दौरान आयोजित किया गया। इस अभ्यास को दो भागों में बांटा गया। पहले दिन गणना के बारे विशेषज्ञों में चर्चा की गई और दूसरे दिन वास्तविक गणना के लिए पोंग डैम वेटलैंड में वर्ष 2019-20 के दौरान पक्षियों की आबादी के संख्यात्मक आकार को विभिन्न संगठनों और पक्षी समूहों के विशेषज्ञों  द्वारा देखा गया। बर्ड्स आॅफ हिमाचल प्रदेश, हिमाचल बर्ड क्लब, इंटरनेशनल वेटलैंड, वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट आॅफ इंडिया (डब्ल्यू.आई.आई.), धर्मशाला बर्ड क्लब और कई वन्यजीव प्रेमियों, बर्ड वाॅचर, स्वयंसेवकों के साथ वन विभाग के अधिकारियों ने इस बड़े अभ्यास में भाग लिया। विभिन्न विशेषज्ञों और वन अधिकारियों ने दो दिनों के संयुक्त प्रयासों से क्षेत्र में 114 विभिन्न प्रजातियों के 1,15,701 पक्षियों को इस वर्ष पोंग डैम झील में पाया। इनमें 6,040 प्रजातियों के 1,04,032 प्रवासी वाटर फौल्स, 30 प्रजाति के 10,377 स्थानीय जल पक्षी  एवं 24 प्रजातियों के अन्य स्थानीय 1292 पक्षी दर्ज किये गए। पक्षियों की कुल आबादी के साथ-साथ पक्षियों की प्रजातियों की संख्या में पिछले साल की तुलना में वृद्धि पाई गयी। पक्षियों की संख्या में 115229 से बढ़कर 115701 तथा प्रजातियाँ 103 से बढ़कर 114 की वृद्धि आंकी गई। प्रवासी जल आश्रित प्रजातियों तथा  स्थानीय जल आश्रित प्रजातियों में भी पिछले वर्ष की तुलना में क्रमशः 58 से 60 और 29 से 30 की वृद्धि दर्ज की गई। चीफ वाइल्डलाइफ वार्डन डा. सविता ने प्रसन्ता जताई है कि पौंग झील की प्रमुख प्रजाति बार-हेडेड गीज ने पिछले साल 2018-19 से 68ः की वृद्धि दिखाई है, जो पिछले वर्ष 29443  की तुलना में इस वर्ष 49,496 दर्ज की गई। विशेषज्ञों की राय के अनुसार यह पक्षी प्रजाति साइबेरिया के दूर दराज के क्षेत्रों से आती है और खुले घास क्षेत्रों को पसंद करती है। वन्य प्राणी प्रभाग ने पक्षियों के निवास स्थान को समृद्ध करने के लिए बहुत कार्य किए हैं।

Check Also

सुनीता ठाकुर को सौंपी संयुक्त व्यापार मंडल हिमाचल प्रदेश की कमान

एप्पल न्यूज़, शिमला हिमाचल प्रदेश में व्यपारियों की समस्यों का निदान करने के लिए प्रदेश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
smart-slider3